पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वो पिछले हफ़्ते शनिवार को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के मौक़े पर लोगों से बड़े अपनापन के भाव से पूछ रहे हैं- अच्छा वो हमारा सिद्धू किधर है? मैं कह रहा हूं हमारा सिद्धू. आ गया वो? आ गया?'' वीडियो में इमरान ख़ान हँसते हुए ऐसा कह रहे हैं. पीएम ख़ान के इस सवाल पर लोग बताते हैं कि सिद्धू कुछ लेने गए हैं.

इंटरनेट पर यह वीडियो वायरल हो गया है. इमरान ख़ान ने सिद्धू को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के मौक़े पर ख़ास अतिथि के रूप में आमंत्रित किया था.

https://twitter.com/Geeta_Mohan/status/1193251046568558592

इमरान ख़ान ने करतापुर कॉरिडोर के उद्घाटन के मौक़े पर कहा था, ''गुरु नानक के दर्शन में मानवता है. मानवता ही है जो इंसानों को जानवरों से अलग करता है. हमारे अल्लाह भी मानवता की ही बात करते हैं और वो सभी इंसानों से प्यार करते हैं. मैंने प्रधानमंत्री बनते ही पीएम मोदी से कहा था कि ग़रीबी दोनों देशों की सबसे बड़ी समस्या है और हम दोनों मुल्क सीमा खोलेंगे तो कारोबार से ग़रीबी ख़त्म होगी.''

करतारपुर पहुंचे कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर सिद्धू ने भी इमरान ख़ान की जमकर तारीफ़ की थी. शनिवार को उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए सिद्धू ने कहा था, ''पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान में 14 करोड़ सिखों का विश्वास हैं. वो एक जीता-जागता इतिहास हैं. जिन्होंने कोई नफ़ा-नुकसान नहीं देखा, कोई सौदा नहीं देखा, सिर्फ़ और सिर्फ़ ईश्वर के नाम पर यह क़दम उठाया है.''

हालांकि बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने रविवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर सिद्धू की ओर से इमरान ख़ान की तारीफ़ को लेकर सोनिया गांधी से माफ़ी की मांग की.

अयोध्या फ़ैसले के बाद धार्मिक नेताओं से मिले डोभाल

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के एक दिन बाद रविवार को हिन्दू और मुसलमानों के बड़े धार्मिक नेताओं से मुलाक़ात की.

एनएसए ऑफिस के अनुसार डोभाल ने अपने आवास पर 18 हिन्दू धार्मिक नेता और बुद्धिजीवियों के साथ 12 प्रमुख मुस्लिम नेताओं से मुलाक़ात की. कहा जा रहा है कि अजित डोभाल पहले से ही इन नेताओं के संपर्क में थे.

कहा जा रहा है कि इस बैठक में डोभाल ने नेताओं से कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद विवाद थम गया है और अब किसी भी तरह का कोई नया विवाद सामने नहीं आना चाहिए.

बोलीविया के राष्ट्रपति का इस्तीफ़ा

बोलीविया के राष्ट्रपति ईवो मोरालेस ने 14 साल सत्ता में रहने के बाद पद छोड़ दिया है. उन्होंने कहा है कि वो तख्तापलट के शिकार हुए हैं. पिछले महीने ही उन्होंने चुनावों में जीत हासिल की थी मगर उसके बाद देश में विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हो गया था. उन्होंने कहा कि वह इसलिए पद छोड़ रहे हैं ताकि अपने राजनीतिक सहयोगियों के परिवारों की रक्षा कर सकें क्योंकि कुछ प्रदर्शनकारियों ने उनके घरों को जला दिया था.

मोरालेस ने टीवी पर प्रसारित संदेश में कहा, ''बोलीविया के मेरे भाई-बहनों और दुनिया वालो... मैं आपको बताना चाहूंगा कि मैं अभी उपराष्ट्रपति और स्वास्थ्य मंत्री के साथ हूं. मैंने अपने सोशल मूवमेंट फेडरेशन, बोलीवियन वर्कर्स सेंटर के दोस्तों और चर्च की बात मानते हुए राष्ट्रपति पद से इस्तीफ़ा देने का फ़ैसला किया है.'' मारालेस के पद छोड़ने के बाद विपक्ष सक्रिय हो गया है. ला पास में विपक्षी नेता लूई फर्नांदो कहा कि वो नए प्रशासन के माध्यम से देश को एकजुट करना चाहेंगे.

एनसीपी ने समर्थन के लिए शिव सेना के सामने रखी शर्त

शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने शिव सेना के सामने समर्थन को लेकर शर्त रखी है. रविवार शाम बीजेपी ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने से इनकार कर दिया था.

महाराष्ट्र में बीजेपी 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है लेकिन बहुमत से दूर है. अब राज्यपाल ने दूसरी बड़ी पार्टी शिव सेना को सरकार बनाने का आमंत्रण दिया है. शिव सेना के पास 56 विधायक हैं और वो सरकार तभी बना पाएगी जब उसे एनसीपी और कांग्रेस दोनों का समर्थन मिलेगा.

एनसीपी ने समर्थन के बदले शर्त रखी है और कहा है कि शिव सेना पहले एनडीए से बाहर हो. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि अगर शिव सेना को समर्थन चाहिए तो केंद्र की एनडीए सरकार से बाहर हो जाए.

गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व

गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर सोमवार को दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी ने एक भव्य नगर कीर्तन का आयोजन किया है. इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के हिस्सा लेने की उम्मीद है. बैंड ग्रुप, घुड़सवार निहंग, स्कूली बच्चे, कीर्तन मंडलियां, अखाड़ा और गटका ग्रुप समेत कई झांकियां निकलेंगी.

ऐसे में मध्य, उत्तर और उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाक़ों में सोमवार को ट्रैफिक प्रभावित हो सकता है.

इसे देखते हुए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने एक रूट प्लान तैयार किया है. नगर कीर्तन जिन रास्तों से होकर गुजरेगा, उन रास्तों के ट्रैफिक को दूसरे रास्तों पर मोड़ा जाएगा. यह नगर कीर्तन सुबह शुरू होकर देर रात ख़त्म. ट्रैफिक पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, नगर कीर्तन सुबह क़रीब 10 बजे चांदनी चौक के गुरुद्वारा सीसगंज साहिब से शुरू होकर रात 9 बजे के क़रीब जीटी करनाल रोड स्थित गुरुद्वारा नानक प्याऊ साहिब पहुंचेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)