पहाड़ों पर पहुंचे पश्चिमी विक्षोभ और राजस्थान के ऊपर बनी चक्रवाती हवाओं के कारण मौसम ने तेजी से करवट बदली। सोमवार देर रात वेस्ट यूपी में तेज आंधी से पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए। इससे कई जगहों पर बिजली आपूर्ति बाधित रही। गेहूं और आम की फसल को भी भारी नुकसान पहुंचा। मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे में में अंधड़ के साथ बारिश एवं ओलावृष्टि की आशंका जताई है। इससे अधिकतम तापमान में गिरावट होगी।

सोमवार रात से खराब हुआ मौसम मंगलवार को भी बिगड़ा रहा। दिनभर बादल छाए रहे। मेरठ में भी तेज आंधी और हल्की बारिश हुई, जिस कारण दिन के तापमान में 9.2 डिग्री और रात में दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट हुई। आंधी से वेस्ट यूपी में गेहूं की फसल को नुकसान हुआ है।

बिजनौर और सहारनपुर में बूंदाबांदी व आंधी चलने से जहां गर्मी से राहत मिली, वहीं गेहूं की फसल बिछ गई। आम व लीची की फसल में बौर को नुकसान पहुंचा है। बागपत में करीब 10 फीसदी गेहूं की फसल को नुकसान की आशंका है।

मुजफ्फरनगर में सोमवार रात आई आंधी से शहर और ग्रामीण क्षेत्र की बिजली आपूर्ति ठप हो गई। कई स्थानों पर हाईटेंशन लाइन टूटकर गिरी है। सुबह तक आंधी जारी रही। शामली, बुलंदशहर और हापुड़ में ठंडी हवाओं के साथ रिमझिम बारिश से मौसम सुहाना हो गया।

कांग्रेस ने लखनऊ से राजनाथ सिंह के खिलाफ आचार्य प्रमोद कृष्णन को उतारा